साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड

South Eastern Coalfields Limited

A Government of India Undertaking

A Miniratna Company

स्क्रीन रीडर शब्द आकार:  अ+    अ- | रंग बदलें:       
भाषा बदलें : ENGLISH   g20   ministry-img



क्र कोयला संचय गहराई प्रमाणित (मि.टन) सांकेतिक (मि.टन) अनुमानित (मि.टन) कुल
I म.प्र.में कोयला संचय 0-1200 3847.01 5336.73 311.21 9494.95
II छ.ग. में कोयला संचय 0-1200 37236.35 42293.97 1243.55 80773.87
कुल कोयला संचय (म.प्र.+छ.ग.) 0-1200 41083.36 47630.70 1554.76 90268.82

01.04.2023 को, जीएसआई के अनुसार, एसईसीएल के पास अपने चार प्रमुख कोयला क्षेत्रों में निम्नलिखित भूवैज्ञानिक कोयला संचय (मि. टन) हैं

कोलफील्ड गहराई (मी.) प्रमाणित (मि.टन) सांकेतिक (मि.टन) अनुमानित (मि.टन) कुल
सीआईसी 0-1200 10095.49 12065.86 572.37 22733.42
कोरबा 0-1200 8768.76 4211.75 49.48 13029.99
मांड-रायगढ़ 0-1200 20091.50 28288.74 847.45 49227.69
तातापानी- रामकोला 0-1200 2127.91 3064.35 85.46 5277.72
एस.ई.सी.एल 41083.36 47630.70 1554.76 90268.82

 सेन्ट्रल इंडिया कोलफील्ड्स
यह पूर्व में बिश्रामपुर कोलफील्ड्स से लेकर पश्चिम में उमरिया-कोरर कोलफील्ड्स तक फैला हुआ है और 7 जिलों अर्थात छत्तीसगढ़ में सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर, कोरिया और पूर्वी मध्य प्रदेश में शहडोल, अनुपपुर और उमरिया में स्थित है। इसमें 12 कोयला क्षेत्र शामिल हैं - कोरर, उमरिया, जोहिला, सोहागपुर, सोनहत, झिलिमिली, चिरिमिरी, सेंदुरगढ़, पंच-बहिनी, हसदेव-अरंड, लखनपुर और बिश्रामपुर। पंचबाहिनी नामक एक नया कोयला क्षेत्र है। सेन्ट्रल कोलफील्ड्स में 22,733.42 मिलियन टन कोयले का भूवैज्ञानिक भण्डार शामिल है। यह भण्डार 0-1200 मीटर की गहराई पर हैं।

 कोरबा कोलफील्ड
कोरबा कोलफील्ड छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में स्थित है। जीएसआई के अनुसार, कोरबा कोलफील्ड में कुल 13,029.99 मिलियन टन का कोयला भंडार उपलब्ध है।

मांड एवं रायगढ़ कोलफील्ड
यह छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में स्थित है। इसमें 49,227.69 मिलियन टन कोयले का भंडार है। इसमें पावर ग्रेड के लिए बड़ी संभावनाए है और यह ओपन-कास्ट खनन के लिए उपर्युक्त है।

रामकोला एवं तातापानी कोलफील्ड
यह छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में स्थित है। इसमें 5,277.72 मिलियन टन कोयले का भंडार है।