साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड

South Eastern Coalfields Limited

(भारत सरकार का उपक्रम)

(A Government of India Undertaking)

एक मिनीरत्न कंपनी...

स्क्रीन रीडर शब्द आकार:  अ+    अ- | रंग बदलें:       
भाषा बदलें : ENGLISH   coal-india-img   ministry-img   वेबसाईट अंतिम अद्यतन : September 24 2021 22:23:08
यह वेबसाइट एनआईसी (बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडों में खुलती है) द्वारा आयोजित की जाती है, भारत सरकार और एसईसीएल के आईटी डिवीजन द्वारा रखी जाती है।
हालांकि इस वेबसाइट पर सामग्री की सटीकता और मुद्रा सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास किए गए हैं, वही कानून के बयान के रूप में नहीं माना जाना चाहिए या किसी भी कानूनी उद्देश्यों के लिए उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। एनआईसी सामग्री की सटीकता, पूर्णता, उपयोगिता या अन्यथा के संबंध में कोई ज़िम्मेदारी स्वीकार नहीं करता है। उपयोगकर्ताओं को सलाह दी जाती है कि वे संबंधित सरकारी विभागों और / या अन्य स्रोतों के साथ किसी भी जानकारी को सत्यापित / जांचें और वेबसाइट में दी गई जानकारी पर कार्य करने से पहले उचित व्यावसायिक सलाह प्राप्त करें।

किसी भी घटना में सरकार या एनआईसी बिना किसी सीमा, अप्रत्यक्ष या परिणामी हानि या क्षति, या उपयोग से उत्पन्न होने वाली किसी भी हानि, हानि या क्षति, या डेटा के उपयोग की हानि सहित किसी भी व्यय, हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी होगा, या इस वेबसाइट के उपयोग के संबंध में .

इस वेबसाइट पर शामिल अन्य वेबसाइटों के लिंक केवल सार्वजनिक सुविधा के लिए उपलब्ध कराए जाते हैं। एनआईसी लिंक्ड वेबसाइटों की सामग्रियों या विश्वसनीयता के लिए ज़िम्मेदार नहीं है और यह आवश्यक रूप से उनके भीतर व्यक्त दृष्टिकोण का समर्थन नहीं करता है। हम हर समय ऐसे लिंक किए गए पृष्ठों की उपलब्धता की गारंटी नहीं दे सकते हैं।

इस वेबसाइट पर विशेष रुप से प्रदर्शित सामग्री को हमें एक मेल भेजकर उचित अनुमति लेने के बाद नि: शुल्क पुन: उत्पन्न किया जा सकता है। हालांकि, सामग्री को सटीक रूप से पुन: उत्पन्न किया जाना चाहिए और अपमानजनक ढंग से या भ्रामक संदर्भ में उपयोग नहीं किया जाना चाहिए। जहां भी सामग्री प्रकाशित या दूसरों को जारी की जा रही है, स्रोत को प्रमुख रूप से स्वीकार किया जाना चाहिए। हालांकि, इस सामग्री को पुन: पेश करने की अनुमति किसी भी सामग्री तक विस्तारित नहीं होगी जिसे किसी तीसरे पक्ष के कॉपीराइट के रूप में पहचाना जाता है। ऐसी सामग्री को पुन: उत्पन्न करने के लिए प्राधिकरण संबंधित विभागों / कॉपीराइट धारकों से प्राप्त किया जाना चाहिए।

      इन नियमों और शर्तों को भारतीय कानूनों के अनुसार नियंत्रित और समझा जाएगा। इन नियमों और शर्तों के तहत उत्पन्न कोई भी विवाद भारत की अदालतों के अनन्य क्षेत्राधिकार के अधीन होगा।